10 साल पहले मुस्लिमों, गोरों और नस्लवाद को लेकर किया था ट्वीट, अब ट्रोल किए जा रहे
Spread the love

ट्विटर के नए CEO पराग अग्रवाल कंट्रोवर्सी में घिर गए हैं। उनका करीब 10 साल पुराना एक ट्वीट वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने व्हाइट पीपुल यानी गोरों और मुस्लिमों को लेकर एक ट्वीट किया था। अब इस ट्वीट के वायरल होने के बाद अमेरिकी दक्षिणपंथी पराग को ट्रोल कर रहे हैं। उनका कहना है कि पराग के पुराने ट्वीट से नस्लवाद झलकता है।

पराग ने 2010 में किया था ट्वीट
ट्विटर CEO पराग ने 26 अक्टूबर 2010 को कॉमेडियन आसिफ मांडवी के शो को लेकर एक ट्वीट किया था। उन्होंने अमेरिकी व्हाइट लोगों के लिए लिखा था- अगर आप मुस्लिमों और चरमपंथियों के बीच अंतर नहीं कर सकते हैं तो मैं गोरे लोगों और नस्लवादियों के बीच भेद क्यों करूं।

अब इस ट्वीट को लेकर अमेरिकी दक्षिणपंथी उन्हें निशाना बना रहे हैं। वे इस ट्वीट के आधार पर पराग को व्हाइट पीपुल विरोधी साबित करने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि, इस ट्वीट से जुड़े दूसरे ट्वीट्स में पराग ने सफाई दी थी कि उनका स्टेटमेंट कॉमेडियन के शो को लेकर है।

इस विरोध की वजह क्या है
पराग के इस ट्वीट के अभी वायरल और ट्रोल होने की वजह अमेरिकी कट्टरपंथी व्हाइट समुदाय है, जिसके लिए ट्विटर की शर्तें हमेशा से ही सख्त रही हैं। अब ये समुदाय पराग को पूर्व CEO जैक डोर्सी के उत्तराधिकारी के तौर पर देख रहा है। उनका मानना है कि कट्टरपंथियों के लिए इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सेंसरशिप और ज्यादा बढ़ जाएगी। इन कट्टरपंथियों ने पहले भी ट्विटर का बहिष्कार किया था, जब पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को ट्विटर ने बैन कर दिया था। इस समुदाय का कहना है कि ट्विटर उनको अपने प्लेटफॉर्म पर हमेशा दबाता रहा है।

पराग ने IIT बॉम्बे से पढ़ाई की, स्टेनफोर्ड से डॉक्टरेट
IIT बॉम्बे से पढ़ाई करने वाले पराग अग्रवाल स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट भी हैं। ट्विटर ने 2018 में उन्हें एडम मेसिंजर की जगह चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर बनाया था। ट्विटर से पहले पराग माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च और याहू के साथ काम कर चुके हैं।

दुनिया की कई बड़ी कंपनियों में भारतीय मूल के CEO
माइक्रोसॉफ्ट में सत्या नडेला, गूगल की पेरेंट कंपनी अल्फाबेट में सुंदर पिचाई, अडोब में शांतनु नारायण, IBM में अरविंद कृष्णा, VMWare में रघु रघुराम के बाद अब ट्विटर में पराग अग्रवाल CEO बने हैं।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.