मेटा पर नया आरोप:प्लेटफॉर्म की थर्ड पार्ट की कार्रवाई से अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और ह्यूमन राइट को रिस्क, नफरत की भावना को मिला बढ़ावा
Spread the love

मेटा के प्लेटफॉर्म जैसे फेसबुक और वॉट्सऐप पर अभिव्यक्ति और सूचना की स्वतंत्रता का ध्यान नहीं देने का आरोप लगा है। रिपोर्ट में सामने आया है कि जब ये किसी थर्ड पार्टी की कार्रवाई करते हैं तो ह्यूमन राइट्स का ख्याल नहीं रखते हैं। साथ ही इनके बैन की वजह से नफरत और विरोध की भावना को बढ़ावा मिलता है।

ये रिपोर्ट मेटा के प्लेटफॉर्म से भारत और दूसरे देशों में ह्यूमन राइट रिस्क पर 2019 में शुरू किए गए एक स्वतंत्र मानवाधिकार प्रभाव मूल्यांकन (HRIA) पर आधारित है। HRIA में 40 सिविल सोसाइटी स्टेकहोल्डर, एकेडमिक्स और पत्रकारों के इंटरव्यू को शामिल किया गया है।

www.vagmiinfotech.com

इसमें कंपनी और कंटेंट पॉलिसी के एक्सटर्नल स्टेकहोल्डर के बीच समझ के अंतर को भी नोट किया गया है। साथ ही इसमें यूजर्स की जानकारी का कम होना, कंटेंट की रिपोर्टिंग और कंटेंट को रिव्यू करने में कठिनाइयों और कई लैंग्वेज में कंटेंट पॉलिसी को लागू करने की चुनौतियों का जिक्र भी है।

रिपोर्ट के अनुसार, प्रोजेक्ट को मार्च 2020 में लॉन्च किया गया था। कोविड -19 की वजह से इसमें देरी हुई। जिसकी वजह से यह प्रोजेक्ट 30 जून, 2021 तक खत्म हो पाया।

भारत में भी नफरत और झूठ फैला रहा फेसबुक
पिछले साल आई कंपनी की एक अंदरूनी रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि भारत में फेसबुक फेक, भ्रामक खबरें और हिंसा फैलाने का माध्यम बन गया है। ‘विरोधात्मक और नुकसानदेह नेटवर्क भारत एक केस स्टडी’ नामक इस दस्तावेज को कंपनी के ही रिसर्चर ने तैयार किया था। इसके मुताबिक फेसबुक पर ऐसे कई ग्रुप व पेज चल रहे हैं, जो मुसलमानों व भारतीय समाज के कमजोर तबकों के खिलाफ काम कर रहे हैं।

फेसबुक की पूर्व कर्मचारी ने बताया कंपनी के ट्रेड टूल से हो रही ह्यूमन ट्रैफिकिंग, महिलाओं की उम्र और फोटो कीमत के साथ लिस्टेड

फेसबुक के गलत कामों की जानकारी दे रही यह रिपोर्ट उसकी पूर्व कर्मचारी फ्रांसेस हॉगेन ने फेसबुक के कई अहम डॉक्यूमेंट के साथ तैयार की थी। 2019 के आम चुनाव के बाद भी भारत पर ऐसी ही रिपोर्ट में फेसबुक ने झूठी खबरें फैलाने व व्यवस्था बिगाड़ने की पुष्टि हुई। उसके मुताबिक पश्चिम बंगाल में सबसे ज्यादा देखे गए कंटेंट के 40% व्यू फर्जी थे। वहीं 3 करोड़ भारतीयों तक पहुंच रखने वाला अकाउंट अनधिकृत मिले।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.